नकली स्टीकर लगाकर बना देते थे ब्रांडेड शराब, अब फैक्ट्री का भंडाफोड़

बिहार के बांका जिले में होली के समय 12 लोगों की संदिग्ध मौत हुई थी. कुछ के परिजनों ने शराब पीने से मौत की बात कही थी लेकिन प्रशासनिक स्तर पर इसकी पुष्टि नहीं की गई थी. अब टीम ने जब छापेमारी अभियान चलाना शुरू किया है तो अवैध तरीके से चल रही शराब की फैक्ट्रियों का पता चल रहा है. सोमवार को बिहार के बांका जिले और पड़ोसी राज्य झारखंड के गोड्डा जिले की उत्पाद विभाग की टीम ने नकली विदेशी शराब बनाने के एक ठिकाने का पर्दाफाश किया है.

उत्पाद विभाग को गुप्त सूचना मिली थी कि गोड्डा जिले के पोड़ैयाहाट थाना अंतर्गत हरियारी गांव के समीप के जंगलों में एक विदेशी शराब पैकिंग का केंद्र चल रहा है और शराब बांका जाएगा. इसके बाद बांका उत्पाद विभाग अधीक्षक ने गोड्डा उत्पाद अधीक्षक से वार्ता कर सघन छापेमारी अभियान चलाया. इस अभियान के क्रम में गोड्डा के हरियारी बरगच्छा के जंगल में एक ठिकाने से 105 लीटर स्प्रिट के साथ-साथ एक हजार ब्रांडेड शराब के स्टीकर और ढक्कन बरामद किया. हालांकि इस छापेमारी में किसी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है.

छापेमारी के बाद दर्ज किया गया है मामला
इस मामले में गोड्डा उत्पाद अधीक्षक द्वारा कांड संख्या 266/2021-22 दर्ज किया गया है. वहीं इसके पूर्व होली के दौरान पंजवारा में जब्त हुई शराब की एफएसएल रिपोर्ट आने के बाद बांका डीएम सुहर्ष भगत और एसपी अरविंद कुमार गुप्ता बीते शनिवार को झारखंड के गोड्डा छापेमारी के लिए गए थे. इस दौरान वहां से 600 बोतल जहरीली शराब जब्त की गई थी. इसी ब्रांड की शराब पंजवारा बॉर्डर पर होली से पूर्व भी पुलिस ने भारी मात्रा में जब्त की थी. शराब की एफएसएल रिपोर्ट में इथेनॉल की अधिक मात्रा मिलने की रिपोर्ट प्रशासन को मिली है.