बिहार में नीतीश सरकार के फ्लोर टेस्ट से पहले बड़े सियासी उलटफेर के संकेत मिल रहे हैं। मंत्री विजय चौधरी के आवास पर चल रही जेडीयू विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार तो पहुंच गए हैं लेकिन कुछ विधायकों के बैठक में नहीं आने की बात सामने आ रही है। ऐसे में बिहार में बड़े सियासी खेल की संभावना प्रबल होती जा रही है।

दरअसल, नई सरकार के गठन के बाद से ही आरजेडी और कांग्रेस दावा कर रहे थे कि नीतीश सरकार विधानसभा में बहुमत साबित नहीं कर पाएगी।विधायकों के टूटने के डर से कांग्रेस ने अपने 16 विधायकों को हैदराबाद भेज दिया था वहीं आरजेडी ने अपने सभी विधायकों को तेजस्वी यादव के आवास पर नजरबंद कर रखा है। इसी बीच मंत्री विजय कुमार चौधरी के आवास पर जेडीयू विधायक दल की बैठक शुरू हो गई है।

बैठक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मौजूद है। सूत्रों के मुताबिक, बैठक में जेडीयू के विधायक पहुंचे हैं जबकि चार विधायक बैठक में शामिल नहीं हुए हैं। तीनों विधायकों के मोबाइल बंद हो गए हैं। शेखपुरा के बरबीघा से जेडीयू विधायक सुदर्शन कुमार, जेडीयू विधायक बीमा भारती, विधायक दिलीप राय और जेडीयू विधायक डॉ. संजीव बैठक में नहीं पहुंचे हैं।

इन विधायकों के बैठक में नहीं पहुंचने के बाद यह स्पष्ट हो गया है कि आरजेडी ने जेडीयू के किले में सेंधमारी कर दी है। विधायकों के नहीं पहुंचने के बाद जेडीयू और नीतीश कुमार के साथ बीजेपी की भी टेंशन बढ़ गई है।