भागलपुर नगर निगम के बजट में टहनी छंटाई का प्रावधान पर नहीं होता काम

भागलपुर नगर निगम के बजट में टहनी छंटाई का प्रावधान पर नहीं होता काम

23rd July 2018 0 By Kumar Aditya

निगम के बजट में टहनी छंटाई का प्रावधान पर नहीं होता काम

डीएम आवास के सामने पिछले महीने गिरे पेड़ यूं ही पड़े हुए हैं।

{हवा चलने व बारिश होने

पर सड़क पर गिर रहे पेड़

{पेड़ गिरने से जा चुकी है एक छात्र की जान

 

नगर निगम हर साल शहर में पेड़ों की टहनियों की छंटाई के लिए बजट में  पैसे का प्रावधान करता है। लेकिन  पेड़ों की छंटाई नहीं करता है। इस  कारण बारिश होने व हवा चलने पर  टहनियां सड़क पर गिर जाती हैं और  राहगीर घायल हो जाते हैं। हाल में नगर  निगम दफ्तर के सामने ही पेड़ की  टहनी टूटकर गिर गई। वहां बगल से  कॉलेज की छात्राएं गुजर रही थीं। वे  लोग बाल-बाल बच गईं। इस घटना  में भले ही किसी छात्रा या राहगीर को  चोट नहीं आई पर इस तरह के हादसे  में लोग जख्मी होते रहे हैं।  गिरे पेड़ को हटा भी नहीं रहा निगम  पिछले महीने डीएम आवास के पास एक पेड़ बीच सड़क पर  टूट कर गिर गया था। इससे एक घंटे तक आवागमन बाधित  रहा था। गिरा हुआ पेड़ अब भी वहां पड़ा हुआ है। प्रमंडलीय  आयुक्त कार्यालय के गेट से सटे एक पेड़ के गिरने से बांका  के छात्र की मौत हो गई थी। भागलपुर का घायल हुआ छात्र महीनों अस्पताल के बेड पर रहने के बाद स्वस्थ हुआ था।  इन सब के बावजूद निगम प्रशासन को कोई चिंता नहीं है।  निगम प्रशासन वन विभाग से इसके लिए किसी तरह का  विचार-विमर्श नहीं करता है।

बैठकों में भी इस मुद्दे पर नहीं होती है चर्चा

इस अनदेखी पर जनप्रतिनिधियों ने भी कभी ध्यान नहीं दिया। बैठकों में भी इस मुद्दे पर जल्दी चर्चा नहीं होती है। वन प्रमंडल  के डीएफओ एस. सुधाकर का कहना है कि नगर निगम क्षेत्र के पेड़ की छंटाई का जिम्मा निगम प्रशासन का होता है। वन  विभाग निगम के कामकाज में हस्तक्षेप नहीं कर सकता।  प्रमंडलीय आयुक्त कार्यालय के पास गिरे पेड़ को भी निगम को  ही उठाना चाहिए। मेयर सीमा साहा का कहना है कि निगम  प्रशासन को इसपर ध्यान देने की जरूरत है।

Advertisements