29 घंटे के बाद बोरवेल से निकली सना को PMCH ने ठीक कर भेजा अपने घर मुंगेर

29 घंटे के बाद बोरवेल से निकली सना को PMCH ने ठीक कर भेजा अपने घर मुंगेर

10th August 2018 0 By Kumar Aditya

29 घंटे बोरवेल में जिंदगी और मौत के बीच जूझने वाली सना अब बिल्कुल ठीक हो गई है और आज उसे पटना के पीएमसीएच से मिठाई खिलाकर और टेडी बियर देकर विदा किया गया। आज सना पटना से मुंगेर के लिए सरकारी एंबुलेंस से रवाना हो गई। सना को विदा करने के लिए पूरा पीएमसीएच उमड़ पड़ा था।

बोरवेल में गिरने के बाद उसे जब रेस्क्यू कर निकाला गया था तो वह ठीक बताई गई लेकिन मुंगेर अस्पताल में उसकी तबियत बिगड़ गई थी, उसके सिर में सूजन आ गई थी जिसके बाद धीरे-धीरे उसकी तबियत बिगड़ने लगी थी जिसके बाद उसे पटना के पीएमसीएच में भर्ती कराया गया था। यहां डॉक्टरों की पूरी निगरानी और इलाज के बाद आज सना स्वस्थ होकर सबको बाय कहकर चली गई।

 

जब पीएमसीएच से वो निकल रही थी तो वहां मौजूद हुजूम उसकी एक झलक पाने को बेताब था। पीएमसीएच के अधीक्षक डॉक्टर राजीव रंजन प्रसाद ने वहीं उसे अस्पताल का ब्रांड एम्बैसेडर बनाने का एलान कर दिया।

उसका इलाज कर रहे डॉक्टरों ने सना को फूलों की माला पहनाई और उसे मिठाई खिलाई। वह अपने साथ कई जाने -अनजाने लोगों से मिले गिफ्ट को सहेज कर ले गई है। डॉक्टर राजीव रंजन प्रसाद ने सना की जीवटता को सलाम किया और कहा कि ऐसी बहादुर बच्ची पर बिहार को नाज है।

29 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद बोरवेल से निकाली गई थी सना

मुंगेर के मुर्गियाचक में दो अगस्त को 110 फीट गहरे बोरवेल में गिरी तीन साल की सना को करीब 29 घंटे तक एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीम ने रेस्क्यू ऑपरेशन चलाकर निकाल लिया था। मिट्टी गीली रहने के कारण बचाव दल को सना तक पहुंचने में काफी परेशानी झेलनी पड़ी थी। इस रेस्क्यू अॉपरेशन पर पूरे देश की नजर थी।

 

बोरवेल से सुरक्षित निकली सना की हालत को मुंगेर सदर अस्‍पताल में इलाज कर रहे डॉक्‍टरों ने सामान्‍य बताया था। हालांकि, उसके सिर में सूजन आ गई थी जो लंबे समय तक मिट्टी में दबे होने के कारण हुआ था।बिहार के राज्‍यपाल सत्‍यपाल मलिक, मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार व उपमुख्‍यमंत्री सुशील मोदी ने सना को सकुशल बाहर निकालने के लिए रेस्‍क्‍यू टीम को बधाई दी थी। मुख्‍यमंत्री ने उसके इलाज की पूरी व्‍यवस्‍था करने का आदेश दिया था।

Advertisements