• Sat. Aug 13th, 2022

सीवान में सफाईकर्मियों ने सड़क पर फेंका कचरा, निजी मजदूरों से सफाई करवाने पर भड़के

ByRajkumar Raju

Jan 6, 2022

सीवान नगर परिषद के सफाईकर्मी पिछले 7 दिनों से अपनी मांगों को लेकर हड़ताल पर हैं। इस कारण पूरे शहर में कचरा फैल गया है। गुरुवार की सुबह नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी और पार्षदों ने निजी मजदूरों की सहायता से सफाई कराने का निर्णय लिया। इसकी जानकारी मिलते ही नगर परिषद के हड़ताली महिला सफाईकर्मी हाथों में झाड़ू लेकर सड़क पर उतर गईं। हंगामा करते हुए मजदूरों को खदेड़ दिया। साथ ही साफ किए हुए कचरे को वापस सड़क पर फेंक दिया।

पूरे शहर में गंदगी फैल गई
घटना की सूचना मिलने के बाद नगर कार्यपालक पदाधिकारी ने पार्षदों के साथ नगर थाना पहुंचकर कर्मियों को उकसाने वाले लोगों के खिलाफ FIR दर्ज कराई है। दरअसल, सीवान नगर परिषद के सफाई कर्मी पिछले 7 दिनों से अपनी मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं। इस कारण शहर में कचरा का उठाव नहीं हो रहा है। इससे पूरे शहर में गंदगी फैल गई है।

बातचीत विफल होने पर लिया गया निजी मजदूरों से सफाई कराने का फैसला
गुरुवार को नगर परिषद के हड़ताली सफाईकर्मियों से कार्यपालक पदाधिकारी राहुल धर दुबे के नेतृत्व में पार्षदों ने मुलाकात की। उनकी मांगों को लेकर बातचीत किया। इसका कोई निष्कर्ष नहीं निकला।

इस कारण अधिकारियों ने वैकल्पिक व्यवस्था कर निजी मजदूरों से शहर की सफाई कराने का निर्णय लिया गया। इसकी जानकारी होते ही हड़ताल कर रहे सफाईकर्मियों में से महिला सफाईकर्मी आक्रोशित होकर शहर की सफाई कर रहे मजदूरों को खदेड़ कर भगा दिया। इसके बाद कचरे को पूरे सड़क पर फैला दिया।

नगर थाने में FIR दर्ज
कार्यपालक पदाधिकारी राहुल धर दुबे ने सरकारी कार्य में लगातार बाधा डालने के लिए सफाईकर्मियों को उकसाने वाले लोगों के खिलाफ FIR दर्ज कराई। उन्होंने बताया कि- ‘पिछले कई दिनों से शहर की सफाई नहीं हो रही है। कर्मियों से बार-बार वार्ता करने पर भी कर्मी नहीं मान रहे हैं। उन्हें बाहरी लोगों द्वारा उकसाया जा रहा है। महिला कर्मियों को उकसा कर हंगामा कराया गया। मजदूरों के साथ मारपीट की गई। भगदड़ मच गई। सरकारी कार्य में बाधा डाला जा रहा है। इसी मामले में FIR दर्ज कराई गई है।’

नगर परिषद के कर्मियों की प्रमुख मांग

  • कार्यपालक पदाधिकारी अपनी मनमानी बंद करें।
  • कर्मियों को जातिसूचक शब्दों के साथ भेदभाव नहीं हो।
  • नगर परिषद के पदाधिकारियों को उनके पुराने कार्य सौंपे जाए।
  • सफाई कर्मियों के साथ भेदभाव बंद हो।
  • भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाई जाय।