धूप का मज़ा लेने के लिए क्लास रूम में बोरा बिछाकर सो गए मास्टर जी, आनंद लेना पड़ गया महंगा

बिहार के सरकारी स्कूलों में पढ़ाने वाले मास्टर जी की एक से एक कहानियां सामने आती रहती हैं. लेकिन ताजा मामला सीवान जिले से देखने को मिला है. यहां सरकारी स्कूल में गुरुजी की लापरवाही का एक वीडियो बड़ी तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. दरअसल, कड़कड़ाती सर्दी के बाद इन दिनों बिहार में अच्छी खासी धूप निकल रही है. मास्टर जी जब सरकारी स्कूल के क्लास रूम में पहुंचे तो खिड़की से धूप अंदर आ रही थी. धूप का मजा लेने के लिए मास्टर जी ने वहीं बोरा बिछाया और सो गए.

लेकिन मास्टर जी को यह आनंद लेना महंगा पड़ गया. दरअसल, जब मास्टर साहब धूप का आनंद ले रहे थे उसी वक़्त इलाके की नव निर्वाचित जिला परिषद सदस्य बंदना सिंह कुशवाहा व उनके प्रतिनिधि हेमंत सिंह कुशवाहा स्कूल में जांच करने के लिए पहुंचे थे. इस दौरान उन्होंने देखा कि नवनीत कुमार नाम का शिक्षक बच्चों को क्लास रूम में पढ़ाने के बजाय विद्यालय के एक कमरे में आराम फरमा रहे हैं.

सोई अवस्था से जब शिक्षक को जिला परिषद सदस्य ने जगाया तो उन्हें देखते ही उनके होश उड़ गए. यह मामला जिले के पचरुखी प्रखंड के सिसवा कोड़र स्थित प्राथमिक विद्यालय का है. इस संबंध में जिला परिषद की सदस्य बंदना कुशवाहा ने बताया कि कुछ शिक्षकों द्वारा शिक्षा के मंदिर को कलंकित करने का काम किया जा रहा है. जब सरकार समय से वेतन दे रही है, तो फिर क्यों बच्चों को पढ़ाने के बजाय शिक्षक स्कूल में सो रहे थे.

वहीं, जिला परिषद सदस्य ने बताया कि इसकी सूचना हमने जिला शिक्षा पदाधिकारी को दी है. ऐसे लापरवाह शिक्षक पर कार्रवाई होनी ही चाहिए. इधर, इस पूरे मामले पर सीवान के जिला शिक्षा पदाधिकारी मिथिलेश कुमार ने बताया कि जिला परिषद की सदस्य बंदना कुशवाहा की शिकायत पर सिसवा कोड़र प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक से स्पष्टीकरण मांगी गई है. रिपोर्ट मिलने के बाद दोषी शिक्षक पर बिल्कुल कार्रवाई होगी.