Advertisements

JLNMCH:-केंद्रीय स्वस्थ्य मंत्री के भागलपुर में रहते हुए भी अस्पताल में कोई सुविधा नहीं दिखी

भागलपुर-गुरुवार को शहर में केन्द्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे थे। उन्होंने यहां कई कार्यक्रमों में भाग लिया। उनके रहने के बावजूद भी जवाहर लाल नेहरू चिकित्सा कॉलेज अस्पताल (मायागंज अस्पताल) की कार्यप्रणाली में कोई सुधार नहीं दिखा। प्रतिदिन की ही तरह इलाज में लापरवाही बरती गई। मरीजों को सिर्फ इधर से उधर कर अस्पताल में कर दिया जाता है। यहां से ज्यादातर मरीजों को रेफर कर दिया जाता है।

गुरुवार को जेएलएनएमसीएच के इमरजेंसी में आधा दर्जन से अधिक मरीजों को भर्ती तो किया गया, लेकिन नर्सों ने न सूई दी और न ही दवा। तीन घंटे के बाद बिना दवा-सूई दिए मरीजों को इनडोर विभागों में रेफर कर दिया गया। इमरजेंसी में डॉ. राजकमल की यूनिट में करीब 11 बजे 10 मरीजों को भर्ती किया गया। इन मरीजों में सुरेश प्रसाद देव, हरदेव पासवान, रधुनंदन ठाकुर, मंजू देवी, प्रेमलता जायसवाल, राजेंद्र साह, रामजी प्रसाद, भुलिया देवी, गुरचरण देवी सहित अन्य मरीज शामिल हैं। चिकित्सक ने मरीजों का इलाज किया लेकिन नर्सों द्वारा न तो ट्रीटमेंट चार्ट बनाया गया और न ही मरीजों को सूई आदि भी दी गई। तीन बजे मरीजों को इनडोर के अन्य विभागों में रेफर कर दिया गया। कंट्रोल रूम के स्वास्थ्य प्रबंधक ने इसकी शिकायत इमरजेंसी प्रभारी डॉ. एसपी सिंह से की है।

जेएलएनएमसीएच में बड़ी संख्या में मरीज आते हैं। भागलपुर के अलावा पूर्व बिहार और सीमांचल से भी मरीजों को यहां इलाज के लिए यहां रेफर किया जाता है। इसके बावजूद भी इस अस्पताल की कार्य संस्कृति में कोई सुधार नहीं हुआ है। अक्सर यहां इस प्रकार की शिकायत मिलती रहती है। कभी मरीजों का दवा नहीं जाती है तो कभी चिकित्सक ही नहीं रहते। पिछले दिनों एक और मामला उजागर हुआ था कि कमीशन के लिए अस्पताल के चिकित्सक ने मरीजों काे महंगी दवाएं बाहर के मेडिकल स्टोर से खरीदने को कहते हैं।

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *